कमलनाथ से मिले व्यापारियों ने ड्राय फ्रूट्स मंडी टैक्स पर जताई ये चिंता

इंदौर। सूखे मेवों यानी ड्राय फ्रूट्स पर मंडी टैक्स लागू करने की मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार की मंशा का विरोध किया जा रहा है। इस बारे में अहिल्या चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष एवं व्यापारियों के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस बारे में असहमति जताई।

व्यापारियों को प्रतिनिधिमंडल ने काजू, बादाम, अंजीर, पिस्ता, खजूर समेत 16 ड्राय फ्रूट्स पर 1.5 प्रतिशत मंडी टैक्स लगाए जाने के प्रस्ताव का विरोध किया है। गौरतलब है कि दिवाली के पहले मध्य प्रदेश सरकार ने 16 किस्म के ड्राय फ्रूट्स को मंडी टैक्स के दायरे में लाने की अधिसूचना प्रकाशित कर अपनी मंशा जता चुकी है।

इस सूची में से काजू, बादाम, अंजीर, पिस्ता, खजूर समेत तमाम तरह के ड्राय फ्रूट्स पर कृषि उपज की ही तरह 1.5 प्रतिशत मंडी टैक्स लगाने का प्रस्ताव दर्ज है। इस सूचना के बाद से ही पूरे प्रदेश में विरोध के स्वर बुलंद हो रहे हैं। इंदौर में इस बारे में प्रदेश स्तरीय बैठक में चर्चा भी हो चुकी है।

मुख्यमंत्री से मुलाकात करने वाले प्रतिनिधिमंडल में चैंबर के अध्यक्ष रमेश खंडेलवाल व सचिव मनोज झालानी के संग जबलपुर, ग्वालियर व इंदौर के किराना ड्रायफ्रूट्स व्यापारी शामिल रहे। विदिशा में विधायक शशांक भार्गव के निवास पर मुलाकात के दौरान स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट भी मौजूद रहे।