पहाड़ी पर तेंदुआ!!….कान्हा लौट गई टीम, अब दहशत से कैसे मिलेगी निजात?

पहाड़ी पर तेंदुआ

जबलपुर। शक्ति भवन मुख्यालय, जलपरी से नयागांव, बरगी हिल्स की पहाड़ी पर तेंदुआ परिवार की दस्तक बनी हुई है। ऐसे में कान्हा से आए एक्सपर्ट और रेस्क्यू टीम वापस लौट गई है…तरह-तरह की बातें सामने आ रही हैं, लेकिन एक बात जो तय है कि तेंदुआ पकड़ने के लिए जो पिंजरे लगाए गए थे, वे खाली हैं…पहाड़ी पर तेंदुआ बना हुआ है, लोगों में असुरक्षा और दहशत बनी हुई है..।

पहाड़ी पर तेंदुआ-2

वन विभाग के पिंजरे बे-काम-

ऐसा बताया जा रहा है कि कान्हा नेशनल पार्क से आई टीम को जबलपुर वन मंडल द्वारा सहयोग नहीं मिल रहा था, लिहाजा कान्हा से आई टीम को  रेस्क्यू में परेशानी आ रही थी। इसके साथ ही जो पिंजरे लगाए गए थे, उनमें से एक भी काम नहीं कर रहे थे, जिन्हें दुरुस्त कराने के लिए कान्हा से आई टीम ने कहा था, लेकिन पिंजरों को सुधरवाया नहीं गया।

पहाड़ी पर तेंदुआ-3

यहां मिले थे तेंदुए के फुट-प्रिंट-

मालूम हो कि ठाकुर ताल के पास जहां पिंजरा लगाया गया था, उसके आसपास तेंदुए के पैरों के निशान मिले थे, इसके साथ ही जलपरी और गणेश मंदिर के पीछे भी जंगल में तेंदुए के फुट-प्रिंट दिखे हैं। ऐसा भी बताया जा रहा है कि तेंदुए की संख्या दो या तीन भी हो सकती है, क्योंकि अलग-अलग स्थानों पर पैरों के निशान मिल रहे हैं, लेकिन वन अधिकारियों का कहना है कि अभी संख्या बता पाना मुश्किल है।

पहाड़ी में तेंदुआ  मिशन-तेंदुआ  जबलपुर समाचार