Jabalpur News / तेंदुए की मौत- जंगल में दहशत, सुलगते सवाल…जिम्मेदार खामोश, जंगल में दहशत!!

तेंदुए की मौत

जबलपुर। दरअसल दहशत में सिर्फ इंसान नहीं है…जंगल परिवार के वे मूक प्राणी भी हैं, जिनके जंगलों में हमने ऊंची इमारतें तान ली हैं..। पिछले दिनों छेवला गांव में सैन्य परिक्षेत्र से लगी फेंसिंग के पास शिकारियों द्वारा लगाए फंदे में फंसा तेंदुआ नहीं रहा..। उसकी मौत के बाद उठे सवालों के जवाब शायद मिल न सकें, लेकिन एक बात जो साफ है, वह यह कि जबलपुर से लगे जंगलों में तेंदुआ परिवार भी खौफ में है। करोड़ों रुपए स्वाहा करने वाले वन विभाग, पशु चिकित्सालय की तमाम  व्यवस्था पंगु साबित हो गई हैं।

सवाल ये भी हैं…-

  • घायल तेंदुए को मौके से उठाने में हुई लापरवाही।
  • पोटली बनाकर उठाने से जख्म और रीढ़ पर विपरीत असर हुआ।
  • दो दिन बाद की सर्जरी, एक्सपर्ट तुरंत क्यों नहीं बुलाए गए।
  • सर्जरी के एक दिन पहले खड़ा हुआ था तेंदुए…।
  • फिर ऑपरेशन टेबल पर ही दम तोड़ दिया…।
  • रेस्क्यू टीम में ट्रैक्यूलाजर ड्रिप किसने तय की थी।
  • शिकारी फंदा लगाने वालों को पकड़ने की दिशा में क्या हुआ।
  • जहां तेंदुए की मौत हुई, उसी चिकित्सालय में पीएम..सवाल बड़ा।