Jaguar Land Rover / जगुआर लैंड रोवर के बिना टाटा मोटर्स कुछ भी नहीं

Jaguar Land Rover / जगुआर लैंड रोवर के बिना टाटा मोटर्स कुछ भी नहीं
  • टाटा मोटर्स पर बढ़े कर्ज की निकासी में चार से छह तिमाही लग सकती है
  • लॉकडाउन के दौरान दौरान टाटा मोटर्स के शेयर्स ने सबसे खराब प्रदर्शन किया

नई दिल्ली / कोरोना महामारी के कारण जहां दुनियाभर में ऑटोमोबाइल्स की मांग में गिरावट आई है वहीं कैपिटल मार्केट एंड इन्वेस्टमेंट ग्रुप सीएलएसए लिमिटेड का कहना है कि टाटा मोटर्स अपने लग्जरी ब्रांड जगुआर लैंड रोवर के बिना कुछ नहीं है। महामारी के दौरान 3.7 बिलियन डॉलर की इस ऑटो कंपनी के तेजी से बढ़ते कर्ज का सामना करना पड़ा वहीं इसकी निकासी में चार से छह तिमाही की देरी हो सकती है।

CLSA ने कहा कि पहले ही इसे पैरेंट कंपनी टाटा सन्स प्राइवेट लिमिटेड प्रीफेंशियल इक्विटी अलॉटमेंट के रूप में सहायता कर चुकी है, वहीं ब्रोकरेज का मानना है कि आगे भी इसे सहायता की जरूरत पड़ सकती है।

बीएसई ऑटो इंडेक्ट में टाटा मोटर्स 53 फीसदी नीचे आ गया

  • एनालिस्ट अमीन पीरानी ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि जगुअर अपनी वैल्यूएशन का एकमात्र चालक है। टाटा मोटर्स को खरीदने से कम करने के लिए अपग्रेड करना। “हमारा मानना ​​है कि भविष्य के इक्विटी इनफ्यूजन्स के नुकसान फंडिंग के लिए उपयोग किए जाने की संभावना है और इसलिए हम इसके भारत के व्यापार के लिए किसी भी इक्विटी मूल्य का श्रेय नहीं देते हैं।”
  • भारत में पैसेंजर्स व्हीकल की डिमांड महामारी से पहले ही सुस्त थी। वहीं लॉकडाउन के कारण अप्रैल में किसी भी कार कंपनी की एक भी कार नहीं बिकी। इस दौरान टाटा मोटर्स ने सबसे खराब परफॉर्म किया, यह इस साल एसएंडपी बीएसई ऑटो इंडेक्स में 53 फीसदी नीचे आ गया।
  • यह वायरस जगुआर लैंड रोवर के लिए भी एक झटका है, जो चीन, ब्रेक्सिट और यूरोपीय उत्सर्जन नियमों में मंदी के संयुक्त नकारात्मक प्रभाव से पिछले साल के अंत में एक बदलाव का संकेत दिखाने लगा था। टाटा संस कारोबार के लिए एक रणनीतिक साझेदार की तलाश में थी लेकिन उसने जेएलआर को बेचने का वादा नहीं किया।
  • सीएलएसए का कहना है कि वैश्विक लक्जरी इकाई और भारतीय वाणिज्यिक वाहन व्यवसाय दोनों को अगले वित्तीय वर्ष में ठीक होना चाहिए। पीरानी ने कहा कि भारत के यात्री वाहन कारोबार की बिक्री और उसकी वित्तपोषण शाखा में टाटा मोटर्स के इक्विटी मूल्य में 92 बिलियन डॉलर (1.2 बिलियन डॉलर) की बढ़ोतरी हो सकती है।